skip to content
Lok Sabha Elections 2024: 'घुसपैठियों को बढ़ावा और शरणार्थियों की नागरिकता का विरोध करती हैं ममता बनर्जी' :अमित शाह

Lok Sabha Elections 2024: ‘घुसपैठियों को बढ़ावा और शरणार्थियों की नागरिकता का विरोध करती हैं ममता बनर्जी’ :अमित शाह

Lok Sabha Elections 2024: लोकसभा चुनाव 2024 के दूसरे चरण के लिए प्रचार के सिलसिले में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने आज (23 अप्रैल) पश्चिम बंगाल के मालदा दक्षिण में रोड शो किया. यहां रोड शो के इतर अमित शाह ने ममता सरकार पर जमकर निशाना साधा. वहीं, उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव में बीजेपी 30 -35‌ सीटें जीतेगी.

उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी सीएए का विरोध कर रही हैं और शरणार्थियों को नागरिकता नहीं मिलने दे रही हैं. टीएमसी शासन के तहत पश्चिम बंगाल में लोग लगातार घुसपैठ कर रहे हैं.

अमित शाह बोले – लोगों को मोदी की गारंटी पर भरोसा

वहीं, अमित शाह ने आगे कहा, “तृणमूल जैसे भ्रष्टाचारियों को बंगाल से हटाना होगा. यहां कटमनी के संस्कृति खत्म करनी होगी. अमित शाह ने कहा कि पूरे देश के साथ पश्चिम बंगाल की जनता को मोदी की गारंटी पर भरोसा है. यहां रुपये वसूली के कलचर को खत्म करने के लिए तृणमूल की हार सुनिश्चित करना होगा.”

राम मंदिर को लेकर ये बोल अमित शाह

बंगाल में संबोधन के दौरान केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने राम मंदिर का भी जिक्र किया. गृहमंत्री अमित शाह ने कहा, “आपने 18 सीटें दी हैं. मोदी जी ने राम मंदिर दिया. आज हनुमान जयंती का दिन है और 22 जनवरी, 2024 को मोदी जी ने राम मंदिर की प्राण-प्रतिष्ठा करने का काम किया है. 500 वर्षों से रामलला को टेंट में बिठाकर रखा था. बंगाल वालों ने 2019 में 18 सीटें दीं और राम मंदिर का केस भी जीता, मोदी जी ने राम मंदिर का भूमि पूजन भी किया और प्राण प्रतिष्ठा भी कर दी. आप इस बार 35 सीटें दीजिए. मैं घुसपैठ रोकूंगा. ममता बनर्जी ने घुसपैठ को बढ़ावा दिया है.

बता दें कि 24 घंटे के अंदर अमित शाह दूसरी बार पश्चिम बंगाल आए हैं. इसके पहले रविवार को उत्तर बंगाल में उनकी जनसभा होनी थी. वह सिलीगुड़ी पहुंच भी गए थे लेकिन खराब मौसम की वजह से उनका हेलीकॉप्टर लैंड नहीं कर पाया. इसकी वजह से वह बिहार लौट गए थे और मंगलवार को एक बार फिर पश्चिम बंगाल पहुंचे हैं.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top

BJP Modal