Placeholder canvas

लोकसभा चुनाव 2024 का नया सर्वे..BJP को पूर्ण बहुमत? जानें राज्यों के हिसाब से सीटों का अनुमान

2024 लोकसभा चुनाव को लेकर किए गए टाइम्स नाउ-ETG सर्वे ने आगामी लोकसभा चुनावों के लिए चौंकाने वाले अनुमान लगाए हैं। ABP न्यूज़-C वोटर सर्वे के विपरीत, टाइम्स नाउ-ETG दोनों प्रमुख गठबंधनों के बीच कड़ी टक्कर की भविष्यवाणी करता है, जहां सीटों और वोट शेयर में लगभग बराबरी का मुकाबला हो सकता है। आइए विस्तार से जानें सर्वे के प्रमुख निष्कर्ष:

2024 लोकसभा चुनाव सर्वे

विषय एनडीए I.N.D.I.A.
कुल सीटें 42-44 (44%) 40-42 (44%)
वोट शेयर 44% 44%
कड़ी टक्कर हाँ हाँ
क्षेत्रीय विभाजन उत्तर, पूर्व, पश्चिम में एनडीए का दबदबा दक्षिण में दोनों गठबंधनों के बीच कड़ी टक्कर
आर्थिक चिंताएं अर्थव्यवस्था और बेरोजगारी मतदाताओं की शीर्ष चिंताएं ग्रामीण संकट और कृषि मुद्दे भी महत्वपूर्ण
मोदी की लोकप्रियता बनी हुई है चुनौती का सामना कर रही है
गठबंधन रणनीतियां प्रभावी अभियान रणनीतियां और क्षेत्रीय गठबंधनों का महत्व

| राज्य-वार विभाजन * उत्तर प्रदेश | 38-42 सीटें | 38-40 सीटें | * मध्य प्रदेश | 15-17 सीटें | 12-14 सीटें | * छत्तीसगढ़ | 28-30 सीटें | 28-30 सीटें | * राजस्थान | 15-17 सीटें | 13-15 सीटें |

कुल सीटों का अनुमान:

  • एनडीए: 42-44 सीटें (44% वोट शेयर)
  • I.N.D.I.A. ब्लॉक: 40-42 सीटें (44% वोट शेयर)

मुख्य निष्कर्ष:

  • कड़ी टक्कर: ABP-CVoter द्वारा स्पष्ट एनडीए बढ़त के उलट, टाइम्स नाउ-ETG भविष्यवाणी करता है कि दोनों गठबंधन लगभग समान सीटें और वोट शेयर जीत सकते हैं।
  • क्षेत्रीय विभाजन: ABP-CVoter के समान, एनडीए का दबदबा उत्तर, पूर्व और पश्चिम क्षेत्रों में जारी है। दक्षिण भारत दोनों गठबंधनों के लिए युद्ध का मैदान बना हुआ है।
  • आर्थिक चिंताएं: अर्थव्यवस्था और बेरोजगारी मतदाताओं की शीर्ष चिंताएं बनकर उभरी हैं, दोनों गठबंधनों को प्रभावित करती हैं। टाइम्स नाउ-ETG क्षेत्रीय मतदान पैटर्न को प्रभावित करने वाले ग्रामीण संकट और कृषि मुद्दों पर जोर देता है।
  • मोदी की लोकप्रियता: ABP-CVoter के समान, मोदी की लोकप्रियता बनी हुई है, लेकिन विपक्षी एकता एक महत्वपूर्ण चुनौती है। सर्वे बताता है कि एनडीए को कुछ राज्यों में सत्ता-विरोधी लहर का सामना करना पड़ सकता है।
  • गठबंधन रणनीतियां: टाइम्स नाउ-ETG वोट हासिल करने के लिए एनडीए और I.N.D.I.A. दोनों के लिए प्रभावी अभियान रणनीतियों और क्षेत्रीय गठबंधनों के महत्व को रेखांकित करता है।

राज्य-वार विभाजन:

  • उत्तर प्रदेश: कड़ी टक्कर, एनडीए को 38-42 सीटें और I.N.D.I.A. को 38-40 सीटें मिलने की उम्मीद।
  • मध्य प्रदेश: एनडीए को 15-17 सीटें और I.N.D.I.A. को 12-14 सीटें मिलने की उम्मीद। ABP-CVoter के एनडीए स्वीप से तुलना में यह बहुत करीबी रेस है।
  • छत्तीसगढ़: ABP-CVoter के समान, टाइम्स नाउ-ETG एक कड़ी टक्कर की भविष्यवाणी करता है, जिसमें एनडीए को 28-30 सीटें और I.N.D.I.A. को 28-30 सीटें मिलने की उम्मीद है।
  • राजस्थान: कड़ी टक्कर, एनडीए को 15-17 सीटें और I.N.D.I.A. को 13-15 सीटें मिलने की उम्मीद। ABP-CVoter की तुलना में यह एनडीए की कम प्रभावी स्थिति दर्शाता है।
  • दक्षिण भारत: किसी भी गठबंधन का स्पष्ट लाभ नहीं। कर्नाटक, आंध्र प्रदेश और तेलंगाना जैसे राज्य युद्ध के मैदान बने हुए हैं, प्रोजेक्ट किए गए सीट अनुमान ABP-CVoter से थोड़ा भिन्न हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top

BJP Modal