Placeholder canvas

पीएम मोदी बोले, ‘आजकल पूरा देश राममय, रामराज्य में जनता ही राजा’

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल ही में आंध्र प्रदेश के विजयवाड़ा में एक भाषण में कहा कि आजकल पूरा देश राममय है। उन्होंने कहा कि राम मंदिर का निर्माण होने से देश में एक नई ऊर्जा और उत्साह का संचार हुआ है।

मोदी ने कहा कि रामराज्य में जनता ही राजा होती है। उन्होंने कहा कि रामराज्य में सभी को समान अधिकार और अवसर प्राप्त होते हैं। उन्होंने कहा कि रामराज्य में न्याय और समानता का शासन होता है।

मोदी के इस बयान से राम मंदिर के महत्व और रामराज्य के आदर्शों पर एक बार फिर से चर्चा शुरू हो गई है। कई लोगों का मानना है कि राम मंदिर के निर्माण से भारत में रामराज्य की स्थापना हो सकती है।

राम मंदिर का महत्व

राम मंदिर भारत के करोड़ों हिंदुओं का आस्था का केंद्र है। हिंदू धर्म में राम को भगवान का अवतार माना जाता है। रामायण में वर्णित कथा के अनुसार, राम ने अपने पिता दशरथ के वचन को पूरा करने के लिए 14 वर्ष का वनवास स्वीकार किया था। वनवास के दौरान उन्होंने कई कठिनाइयों का सामना किया और अंत में अपनी पत्नी सीता और भाई लक्ष्मण को रावण से छुड़ाया।

राम मंदिर का निर्माण एक लंबे समय से चल रहा विवाद है। 1992 में अयोध्या में बाबरी मस्जिद के विध्वंस के बाद यह विवाद और भी बढ़ गया था। 2019 में सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण का फैसला सुनाया था।

रामराज्य के आदर्श

रामराज्य एक आदर्श राज्य है, जिसमें सभी को समान अधिकार और अवसर प्राप्त होते हैं। रामराज्य में न्याय और समानता का शासन होता है। रामराज्य में सभी लोग एक-दूसरे के प्रति प्रेम और भाईचारे का भाव रखते हैं।

रामराज्य के आदर्शों को भारतीय संस्कृति में बहुत महत्व दिया जाता है। कई भारतीय विचारक और नेता रामराज्य के आदर्शों को अपनाने का आह्वान करते रहे हैं।

रामराज्य की स्थापना के लिए क्या किया जा सकता है?

रामराज्य की स्थापना के लिए सबसे पहले हमें रामराज्य के आदर्शों को समझना होगा। हमें यह समझना होगा कि रामराज्य में क्या-क्या होता है। जब हम रामराज्य के आदर्शों को समझ लेंगे तो हम उन्हें अपने जीवन में अपनाने का प्रयास कर सकते हैं।

रामराज्य की स्थापना के लिए हमें अपने समाज में प्रेम, भाईचारा और समानता का भाव बढ़ाना होगा। हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि सभी को समान अधिकार और अवसर प्राप्त हों। हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि न्याय और समानता का शासन हो।

रामराज्य की स्थापना एक आसान काम नहीं है। लेकिन अगर हम सभी मिलकर प्रयास करें तो रामराज्य की स्थापना हो सकती है।

आजकल पूरा देश राममय है। राम मंदिर के निर्माण से भारत में एक नई ऊर्जा और उत्साह का संचार हुआ है। रामराज्य के आदर्शों को अपनाकर हम एक बेहतर समाज का निर्माण कर सकते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top

BJP Modal