Placeholder canvas
भारत का ऐसा डर, पाक‍िस्‍तान बना चीनी हथियारों का डंपिंग जोन, कराची को होता है ड्रैगन का 55 फीसदी ड‍िफेंस एक्‍सपोर्ट

भारत का ऐसा डर, पाक‍िस्‍तान बना चीनी हथियारों का डंपिंग जोन, कराची को होता है ड्रैगन का 55 फीसदी ड‍िफेंस एक्‍सपोर्ट

चीन अपनी नई तकनीक का डंका बजाकर दुनिया में सबसे बड़ा हथियार निर्माता और निर्यातक बनने का दावा कर रहा है। हालाँकि, इन हथियारों का अभी तक किसी भी युद्ध में इस्तेमाल नहीं हुआ है, क्योंकि चीन खुद युद्ध में जाने से कतराता है।

इसके बजाय, चीन इन हथियारों को कमभारत दामों पर छोटे और गरीब देशों को बेचकर अपना व्यापार चला रहा है। इनमें से सबसे बड़ा ग्राहक है उसका “ऑल वेदर फ्रेंड”, पाकिस्तान। खुफिया रिपोर्टों के अनुसार, चीन अपने कुल हथियार निर्यात का 55% पाकिस्तान को बेचता है, जबकि पाकिस्तान अपनी 77% हथियारों की जरूरत चीन से ही पूरी करता है।

चीन हर तरह के हथियार और उपकरण पाकिस्तान सेना के तीनों अंगों – थल सेना, वायु सेना और नौसेना को देकर मजबूत बनाने में लगा हुआ है।

थल सेना:

  • अल खालिद और VT-4 टैंक
  • SH-15 TMG आर्टिलरी गन
  • Z10 अटैक हेलिकॉप्टर
  • विंग लूंग 1D, विंग लूंग -II, CH-4 ड्रोन
  • LY-80, LY-80 EV, HQ-9P एयर डिफेंस सिस्टम
  • YLC-18 रडार

वायु सेना:

JF-17, J-10 फाइटर जेट

नौसेना:

  • Type-054A/P युद्धपोत
  • 2035 तक हथियारों का पैकेज:
  • चीन ने 2035 तक पाकिस्तान को हथियारों की आपूर्ति के लिए एक मुश्तराशि तय की है, जिसके तहत पाकिस्तान उससे उतनी रकम के हथियार या सैन्य उपकरण खरीद सकता है।

पाकिस्तान की टैंक ताकत:

पाकिस्तान, चीन की मदद से अपनी टैंक ताकत को मजबूत करने में लगा हुआ है।

  • अल खालिद-1 टैंक: चीन और पाकिस्तान ने 90 के दशक में मिलकर विकसित किया था।
  • अल खालिद-2: चीन से 1500 HP डीजल इंजन खरीदने की योजना।
  • VT-4 टैंक: 2021 में पाकिस्तानी सेना में शामिल किया गया।

पाकिस्तान की आर्टिलरी:

  • चीन से 155/52 कैलिबर माउंटेड गन सिस्टम खरीद रहा है।
  • SH1 तोपें: 36 पहले ही प्राप्त हो चुकी हैं, 36 और खरीदने की योजना।
  • 12.7 mm की 750 एंटी एयरक्राफ्ट मशीन गन खरीदने की योजना।

निष्कर्ष:

चीन की नई तकनीक और हथियारों का बाजार पाकिस्तान के लिए आकर्षक है। चीन, पाकिस्तान को हथियारों की आपूर्ति करके उसे भारत के खिलाफ अपनी सैन्य क्षमता को मजबूत करने में मदद कर रहा है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top

BJP Modal