Placeholder canvas
Modi Ka Parivar: क्या 'चौकीदार' वाला असर डालेगा 'मोदी का परिवार', भाजपा ने इसे कैसे बनाया 2024 का बड़ा हथियार?

Modi Ka Parivar: क्या ‘चौकीदार’ वाला असर डालेगा ‘मोदी का परिवार’, भाजपा ने इसे कैसे बनाया 2024 का बड़ा हथियार?

आगामी लोकसभा चुनाव की तारीखों का एलान किसी भी दिन हो सकता है। इधर तमाम सियासी दलों ने अपना चुनावी अभियान शुरू कर दिया है।

इसी कड़ी में रविवार को ‘इंडिया’ गठबंधन ने बिहार में मेगा रैली की। इसी रैली में राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर ऐसी टिप्पणी की कि जिससे विवाद खड़ा हो गया है। अब भाजपा ने इसे मुद्दा बनाते हुए सोशल मीडिया पर ‘मोदी का परिवार’ नाम से अभियान शुरू कर दिया है। इसके तहत पार्टी के नेता और कार्यकर्ता अपनी एक्स प्रोफइल के आगे ‘मोदी का परिवार’ जोड़ रहे हैं।

ऐसा ही कुछ 2019 लोकसभा चुनाव के दौरान भी देखा गया था तब भाजपा ने ‘मैं भी चौकीदार’ नाम से अभियान चलाया था। नतीजे सामने आए तो इसका असर भी दिखा और भाजपा 2014 के मुकाबले 2019 में और भी बड़े अंतर से जीती।

आइये जानते हैं कि 2019 में चलाया गया ‘मैं भी चौकीदार’ अभियान क्या था? चुनाव में इसका क्या असर हुआ? अबकी बार लालू यादव के किस बयान ने विवाद खड़ा कर दिया? अब पलटवार में भाजपा ने क्या अभियान शुरू किया है?

2019 में चलाया गया ‘मैं भी चौकीदार’ अभियान क्या था?

2019 लोकसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस समेत तमाम विपक्षी दलों ने राफेल का मुद्दा बड़े जोर-शोर से उठाया था। दरअसल, साल 2016 में भारत ने 36 नए राफेल लड़ाकू जेट खरीदने के लिए फ्रांस के साथ सौदा किया गया था। 2017 में कांग्रेस ने राफेल लड़ाकू विमान सौदे में ‘घोटाले’ का आरोप लगाया।

बाद में यशवंत सिन्हा, अरुण शौरी, वकील प्रशांत भूषण और अन्य ने सौदे की जांच करने की मांग करते हुए सुप्रीम कोर्ट में याचिकाएं दायर कीं। 2019 में इन याचिकाओं पर कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया लेकिन राफेल लड़ाकू सौदे से संबंधित रक्षा मंत्रालय के कुछ आंतरिक दस्तावेज मीडिया में लीक हो गए।

इसके बाद कांग्रेस के तत्कालीन अध्यक्ष राहुल गांधी ने नैतिक जीत का दावा किया और कहा था कि अदालत ने स्पष्ट कर दिया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चोरी की है। राहुल गांधी ने अमेठी में अपनी रैली के बाद मीडिया से कहा था, ‘सुप्रीम कोर्ट ने स्पष्ट कर दिया है कि चौकीदारजी ने चोरी की है।’

राहुल के साथ ही अन्य विपक्षी नेताओं ने भाजपा और नरेंद्र मोदी के खिलाफ यही बयानबाजी की। उधर भाजपा ने राफेल विवाद पर राहुल के खिलाफ दायर अवमानना याचिका दायर कर दी। पार्टी यहीं नहीं रुकी और उसने ‘मैं भी चौकीदार’ का चुनावी नारा बना दिया। भाजपा के तमाम नेताओं ने सोशल मीडिया प्रोफाइल पर ‘मैं भी चौकीदार’ जोड़ लिया। रैलियों में कार्यकर्ता इसी नारे वाली टी शर्ट और टोपी पहने दिखाए देते।

इस तरह से 2019 लोकसभा चुनाव प्रचार में पार्टी इस नारे का बखूबी इस्तेमाल किया। बता दें कि नवंबर 2019 में सुप्रीम कोर्ट ने राफेल विमान सौदे से जुड़ी सभी याचिकाएं खारिज कर दी थीं। इसके साथ ही अदालत ने 36 राफेल लड़ाकू विमानों की खरीद में अनियमितता के आरोपों पर मोदी सरकार को क्लीन चिट भी दे दी थी।

‘मैं भी चौकीदार’ नारे का चुनाव नतीजों में क्या असर हुआ?

23 मई 2019 को जब लोकसभा के नतीजे सामने आए तो भाजपा ने प्रचंड जीत दर्ज की। भाजपा ने 2019 में 543 सीटों में से 436 पर उम्मीदवार उतारे थे। बाकी सीटें पार्टी ने सहयोगी दलों को दी थीं। पार्टी को 2014 से भी ज्यादा 303 सीट पर जीत मिली। यह आंकड़ा लोकसभा में बहुमत के आंकड़े 272 से भी ज्यादा था। वहीं कांग्रेस महज 52 सीटों पर ही रह गई। इस तरह से चुनाव में भाजपा नीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) को 351 जबकि कांग्रेस नीत संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) को 90 सीटें मिलीं। नतीजों के बाद 30 मई 2019 को नरेंद्र मोदी ने लगातार दूसरी बार प्रधानमंत्री पद की शपथ ली।

अबकी बार लालू यादव के किस बयान ने विवाद खड़ा कर दिया?

2019 में जहां ‘मैं भी चौकीदार’ नारा चर्चा में आया था तो वहीं अबकी बार ‘मोदी का परिवार’ सुर्खियों में है। दरअसल, रविवार (3 मार्च) को पटना में विपक्ष की रैली हुई जिसमें राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर व्यक्तिगत टिप्पणियां कीं। लालू ने कहा, ‘नरेंद्र मोदी आजकल परिवारवाद पर हमला कर रहे हैं, ज्यादा संतान होने वाले लोगों को लेकर प्रधानमंत्री बोलते हैं कि परिवार के लिए लोग लड़ रहे हैं।’

उन्होंने प्रधानमंत्री को लेकर कहा कि आपके पास परिवार नहीं है। लालू यहीं नहीं रुके। उन्होंने कहा कि आप हिन्दू भी नहीं हैं। जब आपकी माताजी का निधन हुआ तो अपने बाल-दाढ़ी नहीं बनवाई, जबकि हर हिन्दू अपनी मां के शोक में केश-दाढ़ी बनवाता है।

लालू के पलटवार में भाजपा ने क्या रणनीति अपनाई है?

लालू यादव के हालिया बयान पर पलटवार करते हुए भाजपा ने सोशल मीडिया पर नया अभियान शुरू कर दिया है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत कई वरिष्ठ नेताओं ने सोशल मीडिया पर अपना बायो बदल लिया है। भाजपा नेताओं ने अपने बायो में नाम के आगे ‘मोदी का परिवार’ लिखा है। पीएम मोदी के साथ एकजुटता दिखाने के लिए ऐसा किया गया है।

लालू यादव को दिया जवाब

सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तेलंगाना दौरे पर रहे। इस दौरान प्रधानमंत्री ने लालू यादव को परोक्ष रूप से जवाब दिया। मोदी ने कहा, ‘भ्रष्टाचार, परिवारवाद और तुष्टिकरण में आकंठ डूबे विपक्षी गठबंधन के नेता बौखलाते जा रहे हैं। अब इन्होंने 2024 के चुनाव का अपना असली घोषणा पत्र निकाला है।

मैं इनके परिवारवाद पर सवाल उठाता हूं, तो इन लोगों ने अब बोलना शुरू कर दिया है कि मोदी का कोई परिवार नहीं है। मैं इनसे कहना चाहता हूं कि 140 करोड़ देशवासी मेरा परिवार हैं। जिनका कोई नहीं है, वो भी मोदी के हैं और मोदी उनका है। मेरा भारत ही मेरा परिवार है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top

BJP Modal