चुनाव से पहले उद्धव ठाकरे गुट से गिरा एक और 'विकेट', शिंदे गुट में शामिल हुए विधायक रविंद्र वायकर

चुनाव से पहले उद्धव ठाकरे गुट से गिरा एक और ‘विकेट’, शिंदे गुट में शामिल हुए विधायक रविंद्र वायकर

उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) गुट के एक और विधायक सीएम एकनाथ शिंदे गुट में शामिल हो गए. ठाकरे गुट के विधायक रविंद्र वायकर रविवार (10 मार्च) को सीएम आवास पहुंचे थे. इस दौरान उन्होंने सीएम एकनाथ शिंदे की मौजूदगी में शिंदे गुट का दामन थाम लिया. रविंद्र वायकर के पार्टी में शामिल होने के मौके पर सीएम एकनाथ शिंदे ने कहा, “रविंद्र वायकर रियल शिवसेना में शामिल हो गए हैं. जो बाबा साहेब ठाकरे के विचारों पर चलती है.”

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंद ने आगे कहा कि रविंद्र वायकर जानते हैं कि प्रदेश की वर्तमान सरकार महाराष्ट्र के लोगों के कार्य कर रही है. उन्होंने कहा कि मैं रविंद्र वायकर शिवसेना में स्वागत करता हूं.

विधायक रविंद्र वायकर को पार्टी की औपचारिक सदस्यता दिलाते हुए सीएम एकनाथ शिंदे ने कहा कि हम नकारात्मक चीजों सकारात्मकता में बदल देंगे. बता दें कि रविंद वायकर (Ravindra Vaikar) पर फाइव स्टार होटल लैंड मामले को लेकर ईडी की जांच चल रही है. उन्हें ईडी पूछताछ के लिए बुला भी चुकी है.

रविंद्र वायकर वर्तमान में जोगेश्वरी ईस्ट से शिवसेना-यूबीटी के विधायक हैं. रविंद्र वायकर का नाम गांव की एक जमीन का दुरुपयोग कर फाइव स्टार होटल निर्माण करने के मामले में सामने आया था. उन पर यह आरोप सत्तारूढ़ गठबंधन के बीजेपी नेता किरीट सोमैया ने ही लगाया था. सोमैया ने ही ईडी से इसकी शिकायत की थी.

वायकर से जनवरी में हो चुकी है पूछताछ

रविंद्र वायकर से जनवरी में ईडी ने पूछताछ की थी. उनसे नौ घंटे तक पूछताछ चली थी. वायकर ने पूछताछ के बाद बाहर निकलने पर मीडिया से कहा था कि वह जांच में सहयोग कर रहे हैं और उन्होंने कुछ गलत नहीं किया है. वायकर को इससे पहले भी दो बार समन भेजा गया था लेकिन उन्होंने पूछताछ में शामिल होने के लिए समय की मांग की थी. मुंबई पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा में दर्ज मामले के आधार पर वायकर से पूछताछ हुई थी.

सीट साझेदारी में उलझी है शिवसेना-यूबीटी

लोकसभा चुनाव जैसे-जैसे नजदीक आ रहा है वैसे-वैसे राजनीतिक पार्टियों में दलबदल शुरू हो गया है. नेता अपनी संभावनाओं की तलाश करते हुए दूसरी पार्टी का रुख कर रहे हैं. रविंद्र वायकर के पाला बदलने की खबर ऐसे समय में आई है, जब शिवसेना-यूबीटी महाविकास अघाड़ी के साथ सीट साझेदारी में उलझी हुई है. गठबंधन की कई दौर की बैठकें हो चुकी हैं, लेकिन नतीजा शून्य है.

महाविकास अघाड़ी में कांग्रेस और शिवसेना-यूबीटी के बीच कुछ सीटों को लेकर समन्वय की कमी होने का दावा किया जा रहा है. महाराष्ट्र में लोकसभा की 48 सीट है और उद्धव ठाकरे 23 सीट चाहते हैं, जिसको लेकर गठबंधन में सहमति नहीं बन पाई है.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top

BJP Modal